Breaking News
Home / अन्य / दिन दूना रात चौगुना धन बढ़ाएंगे ये लक्ष्मी मंत्र व पूजा उपाय
mahalakchmi-300x300

दिन दूना रात चौगुना धन बढ़ाएंगे ये लक्ष्मी मंत्र व पूजा उपाय

दिन दूना रात चौगुना धन बढ़ाएंगे ये लक्ष्मी मंत्र व पूजा उपाय akshay tritiya ke totke

अक्षय तृतीया के दिन सुख-शांति व समृद्धि के लिए पहले विष्णु लक्ष्मी की पूजा और मंत्र जप का यह उपाय करें –

– पूजा से पहले किसी पवित्र नदी में या उसके जल से स्नान करें।
– घर या देवालय में भगवान विष्णु की पूजा गंध, पीले फूल, पीला रेशमी वस्त्र चढ़ाएं, इसी तरह महालक्ष्मी पूजा में लाल गंध, लाल फूल, लाल चुनरी अर्पित करें।
– भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को मौसमी फल या मिठाई का यथाशक्ति भोग लगाएं।
– पूजा के बाद माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की प्रसन्नता के लिए इन बेहद सरल मंत्रों का जप करें। यही मंत्र आप पूजा के दौरान सामग्री चढ़ाते वक्त भी बोल सकते हैं –
लक्ष्मी मंत्र –
ॐ महालक्ष्म्यै नम:
विष्णु मंत्र –
ॐ विष्णवे नम:
पूजा और मंत्र जप के बाद माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की आरती कर सुख-समृद्धि की कामना करें।

संस्कार, सोच, परिवार और संगति बेहतर हो तो धन भरपूर सुख देने वाला होता है। यही वजह है कि हिन्दू धर्मग्रंथों में भी धन को न केवल सुख बंटोरने का एक जरिया बताया गया है, बल्कि घर-परिवार और व्यक्तिगत जीवन को खुशहाल बनाकर यश और सम्मान पाने की चाहत पूरी करने के लिए धार्मिक उपायों में सुख, ऐश्वर्य और धन की देवी महालक्ष्मी की उपासना का महत्व बताया गया है।
इस कड़ी में अक्षय तृतीया को भी ज्ञानशक्ति के रूप में पूजनीय ऋग्वेद में बताए मां लक्ष्मी की उपासना के लिए प्रसिद्ध श्रीसूक्त के चमत्कारी मंत्रों का पाठ भी बड़ा ही शुभ माना गया है। श्रीसूक्त के मंत्रों में माता लक्ष्मी के गुण, स्वरूप, शक्तियों की अद्भुत और बेजोड़ स्तुति है। इनका पाठ हर तरह की दरिद्रता और रोगों से मुक्ति के साथ धन-धान्य और सुखों से भर देता है। जानिए यह पूजा उपाय व अगली तस्वीर पर पहुंच जानिए श्रीसूक्त के चमत्कारी मंत्र –
– शाम के वक्त मां लक्ष्मी की चांदी की प्रतिमा को गंगाजल से स्नान कराएं। (संभव न हो तो तस्वीर की पूजा भी की जा सकती है)
– स्नान के एक चौकी पर लाल वस्त्र रख मूर्ति स्थापित करें। देवी को लाल चंदन, लाल फूल व वस्त्र के साथ अनार के फल या दूध की मिठाई का भोग लगाएं।
– गाय के घी का दीप व धूप लगाकर माता लक्ष्मी के ऋग्वेद में बताए श्रीसूक्त के इन मंत्रों को श्री, वैभव व ऐश्वर्य की कामना से बोलें।
– श्रीसूक्त का पाठ बहुत ही शुभ या यूं कहें कि चमत्कारी माना गया है। क्योंकि यह हर तरह से श्री संपन्न कर देता है। साथ ही लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की प्रसन्नता से शांति भी प्रदान करता है।
– जानकारी न होने पर किसी विद्वान ब्राह्मण से पूरे श्रीसूक्त का ही पाठ कराएं और सुनें। श्रीसूक्त के मंत्रों का अलग-अलग पाठ भी शुभ फल ही देता है।

Comments

comments

About admin

Check Also

mata-ji-300x300

हथेली में पाए जाने वाले द्विप और उनका प्रभाव

हथेली में पाए जाने वाले द्विप और उनका प्रभाव |Island Signs in Hand | Mean …